सोशल एंटर प्रेन्योरशिप से समाज में आएगा बदलाव

1

भारत में ठोस नीति न होने से सामने नहीं आ रहे अच्छे लोग

जयपुर। देश में जितनी सोशल प्रॉब्लम्स हैं उतने उनके समाधान नहीं। सरकार के पास संसाधनों की कमी के चलते लोगों को परेशान होना पड़ता है। इन सभी समस्याओं से निजात पाने के लिए सोशल एंटर प्रेन्योरशिप की जरूरत है। हांलाकि, देश में लगभग दो हजार एंटर प्रेन्योरशिप काम कर रहे हैं लेकिन जरूरत के अनुपात में कम हैं। ये बातें शुक्रवार को मानसरोवर स्थित पीएचडी हाउस में आयोजित सोशल एंटर प्रेन्योरशिप वर्कशॉप में बिमटेक के एसोसिएट प्रोफेसर एनएन शर्मा ने कही। उन्होंने एंटर प्रेन्योरशिप के सामने आने वाले चैलेंज की बात करते हुए कहा कि एंटर प्रेन्योरशिप में हो रहे प्रयोगों को बढ़ावा देने का उपयुक्त माहौल और अवसर दोनों हैं। देश में लगभग 200 से अधिक विश्वविद्यालयों और संस्थानों में सोशल एंटर प्रेन्योरशिप पर बैचलर और मास्टर कोर्सेस भी अब शुरू हो गए हैं।

workshop on social entrepreneurship व्यापारिक मंच से बनेगी बात

सामाजिक समस्याओं को व्यापारिक मंच से जोडऩे पर ही समाज में आर्थिक चेंज आएगा। भारत में  हेल्थ, एजुकेशन, डिसेबिलिटि आदि क्षेत्रों में काम करने की खूब संभावनाएं है। जरूरतमंद लोगों को मजबूत प्लेटफार्म दिलाने के लिए एंटर प्रेन्योर्स को आगे आना होगा।

लीगल पॉलिसी जरूरी

देश में एंटर प्रेन्योरशिप के लिए लीगल पॉलिसी न होने से थोड़ा भ्रम है। साथ ही अच्छे लोगों को सामने आने का अवसर भी नहीं मिलता। पॉलिसी सपोर्ट की वजह से यूके(ब्रिटेन), फिनलैंड, स्पेन, हांगकांग, बेल्जियम, वियतनाम में सोशल एंटरप्रेन्योर्स की भरमार है। यूके (ब्रिटेन) में ही करीब 62 हजार सोशल एंटर प्रेन्योर्स है। जबकि भारत में विकसित देशों की तुलना में सोशल प्रॉब्लम्स अधिक हैं, इसलिए यहां संभावनाएं अधिक हैं।

1 COMMENT

  1. सोशल एंटर प्रेन्योरशिप समाज के उत्थान के लिये अहम सौच है | इसके किये सेवा निव्रत अधिकारियो को जोडा जा सकता है |

    के.के.गुप्ता

    रिजर्व् बैक से सेवा निव्रत

Leave a Reply